Philosophy Shayari Jokes

20
  • Posted on 19/01/2018

    श्रद्धा

    'श्रद्धा’ ज्ञान देती हैं,
    ‘नम्रता’ मान देती हैं,
    और ‘योग्यता’ स्थान देती है
    पर तीनो मिल जाए तो,
    व्यक्ति को महान’ बना देती हैं.

    सुप्रभात



  • Posted on 31/01/2018

    हर एक साँस

    *** Philosophy Shayari Jokes ***

    हर एक साँस न जाने थी जुस्तुजू किस की
    हर इक दयार मुसाफ़िर को बे-दयार मिला
    - निदा फ़ाज़ली



  • Posted on 04/02/2018

    तनहा तनहा रहता हूँ

    तनहा-तनहा रहता हूँ
    दुनिया से मैं डरता हूँ

    हर सू हैं काँटे बिखरे
    डरता सा पग धरता हूँ

    गलती कोई कब की है
    लेकिन कारा सहता हूँ

    निर्दोषी हूँ मैं बिल्कुल
    सबसे कहता रहता हूँ

    मुंसिफ बिकते पैसों में
    पर मैं लब सी रखता हूँ

    जितना ही बचना चाहूँ
    उतने कोड़े सहता हूँ

    जाने क्या है बात ख़लिश
    ज़ल्द न फिर भी मरता हूँ.



  • Posted on 04/02/2018

    खुशियों की चाह में

    *** Philosophy Shayari Jokes ***

    कोई खुशियों की चाह में रोया
    कोई दुखों की पनाह में रोया..
    अजीब सिलसिला हैं ये ज़िंदगी का..
    कोई भरोसे के लिए रोया..
    कोई भरोसा कर के रोया..



  • Posted on 22/01/2018

    हकीकत

    हकीकत जिद किए बैठी है
    चकनाचूर करने को
    मगर हर आंख फिर
    सपना सुहाना ढूंढ लेती है !