Whatsapp Jokes

5539
  • Posted on 11/12/2018

    आसमान पर ठिकाने

    आसमान पर ठिकाने किसी के नहीं होते ,
    जो ज़मीं के नहीं होते वो कहीं के नहीं होते....



  • Username Admin

    See Also :- Papa Teacher Jokes Part 2 - Sawal Jawab

  • Posted on 05/12/2018

    आशिकी में तेरी

    *** Whatsapp Jokes ***

    आशिकी में तेरी बीता, वो फ़साना याद है,
    तेरी उल्फत का मुझे, गुज़रा ज़माना याद है।

    कब मिले, कैसे मिले, कुछ नहीं है याद अब,
    तीर जो दिल पर लगा था वो निशाना याद है।

    मेरे लाख कहने पर भी फ़ोन ना रखना तेरा,
    मेरी ज़िद के चलते तेरा,रूठ जाना याद है।

    कौन लगता हूं मैं तेरा, पूछता है जब ये तू,
    शर्म से मेरा लजाकर, मुस्कुराना याद है।

    क्या ख़बर थी ये"हिना"को,ज़िंदगी बन जाएगा वो,
    मुझको तो बस बेखुदी में, दिल लगाना याद है।



  • Posted on 31/10/2018

    परिवार के साथ

    परिवार के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताना ,
    परिवार खुश रखने का , ढूँढ़ते रहना कोई बहाना

    नग्मे - गाने बहुत सुने और लिखे ,
    अब, याद करो कोई परिवार का तराना

    खुशिओ की लहरे घर में छिपी है ,
    इन्हे ढूंढ़ने, कहीं बाहर न जाना
    - वीरेंद्र



  • Posted on 11/10/2018

    अब के सावन

    *** Whatsapp Jokes ***

    अब के सावन में ये शरारत मेरे साथ हुई,
    मेरा घर छोड़ के कुल शहर में बरसात हुई.

    आप मत पूछिए क्या हम पे सफ़र में गुजरी?
    था लुटेरों का जहाँ गाँव वहीं रात हुई.

    ज़िंदगी-भर तो हुई गुफ़्तगू गैरों से मगर,
    आज तक हमसे न हमारी मुलाक़ात हुई.

    हर गलत मोड़ पे टोका है किसी ने मुझको,
    एक आवाज़ जब से तेरी मेरे साथ हुई.

    मैंने सोचा कि मेरे देश की हालत क्या है,
    एक कातिल से तभी मेरी मुलाक़ात हुई.



  • Posted on 09/10/2018

    आँखों में बसाकर

    अपनी आँखों में बसाकर कोई इक़रार करूँ - २
    जी में आता है कि जी भर के तुझे प्यार करूँ
    अपनी आँखों में बसाकर कोई इक़रार करूँ

    मैं ने कब तुझ से ज़माने की ख़ुशी माँगी है
    एक हलकी सी मेरे लब ने हँसी माँगी है - २
    सामने तुझ को बिठाकर तेरा दीदार करूँ
    जी में आता है कि जी भर के तुझे प्यार करूँ
    अपनी आँखों में बसाकर कोई इक़रार करूँ

    साथ छूटे न कभी तेरा यह क़सम ले लूँ
    हर ख़ुशी देके तुझे तेरे सनम ग़म ले लूँ - २
    हाय, मैं किस तरह से प्यार का इज़हार करूँ
    जी में आता है कि जी भर के तुझे प्यार करूँ
    अपनी आँखों में बसाकर कोई इक़रार करूँ...!!