in

चाँद भी

चाँद भी झाँकता है, खिड़कियों से…

मेरी तन्हाइयों की चर्चा अब आसमानों में है

What do you think?

129 Points
Upvote Downvote

Written by Taureano Ent

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भरोसा ना करना