in

जगह ही नही

जगह ही नही

जगह ही नही दिल में अब दुश्मनों के लिए……
कब्ज़ा दोस्तों का कुछ ज्यादा ही हो गया है !

What do you think?

3.4k Points
Upvote Downvote

Written by bvbt3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कभी अनजान राहों पर

कभी अनजान राहों पर

हज़ारों ख्वाब

हज़ारों ख्वाब