in

दुश्मनों के साथ

दुश्मनों के साथ

दुश्मनों के साथ मेरे दोस्त भी अज़ाद है
देखना है खींचता है मुझपे पेहला तीर कौन
– Parveen Shakir

What do you think?

529 Points
Upvote Downvote

Written by bvbt3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जिससे प्यार करो

जिससे प्यार करो

अधूरी ख्वाहिशें