in

हर दोस्त में

हर दोस्त में

मैंने हर दोस्त में
एक दुश्मन छुपा देखा है

What do you think?

108 Points
Upvote Downvote

Written by bvbt3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कभी अनजान राहों पर

कभी अनजान राहों पर

हज़ारों ख्वाब

हज़ारों ख्वाब