in

AngryAngry

Kaatil Shayari – कातिल शायरी – Katil Shayari | Unclejokes

ङरे क्यूं मेरा कातिल

ङरे क्यूं मेरा कातिल
क्या रहेगा उसकी गर्दन पर वो खून,
जो चश्म-ए-तर से उर्म भर यूॅ दम-ब-दम निकले

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

कोई कातिल

ये अलग बात है दिखाई न दे,
मगर शामिल ज़रूर होता है,
खुदकुशी करने वाले का भी,
कोई न कोई कातिल जरूर होता है

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

कत्ल हुआ हमारा

कत्ल हुआ हमारा इस तरह किश्तों में
कभी ख़जर बदल गए कभी कातिल बदल गए

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

मेरे होने में

मेरे होने में किसी तौर से शामिल हो जाअो
तुम मसीहा नहीं होते हो तो कातिल हो जाअो
– Irfan Siddiqui

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

हँसी जो तेरी कातिल है इतनी ,

जायज़ है तेरा यूँ खुदपे इतराना ।

दिल थाम के बैठो अपना कही ऐसा ना हो ,

नाम हमारा ठहर जाए इन लबों पे रोजाना

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

What do you think?

428 points
Upvote Downvote

Written by bvbt3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Wo Hame Bhul Gaye Shayari In Hindi Feature Image

Wo Hame Bhul Gaye Shayari In Hindi – भूल गये शायरी – Unhe Hamari Yaad Nahi Aati Shayari | Unclejokes

Musafir Shayari Feature Image

Musafir Shayari In Hindi – मुसाफिर शायरी | Unclejokes