View Picture Joke

  • याद आएं हैं उफ़ गुनाह क्या क्या!
    हाथ उठाएं हैं जब दुआ के लिए!
    - Zaaki Karorvi


Leave a Reply



Related

नही पिघलता दिल तुम्हारा

भारी वज़न