in

कभी अनजान राहों पर

कभी अनजान राहों पर

कभी अनजान राहों पर भी मेरा नाम लिखते थे…
वो मेरे शहर में बसते हैं अब अजनबी बन कर
– Yamini

What do you think?

592 Points
Upvote Downvote

Written by bvbt3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

वजह नफरतों की

वजह नफरतों की

जगह ही नही

जगह ही नही