in

किसी और के दीदार

किसी और के दीदार के . . .

लिए उठती नहीं ये आँखे . .

अब तो आँखों को तेरे सिवा,

कोई पसंद नहीं आता

What do you think?

129 Points
Upvote Downvote

Written by Taureano Ent

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भरोसा ना करना