in

ख़ुद को इतना भी न बचाया कर

ख़ुद को इतना भी न बचाया कर

 

ख़ुद को इतना भी न बचाया कर,
बािरशें हों तो भीग जाया कर
-Shakeel Azmi

What do you think?

926 points
Upvote Downvote

Written by Taureano Ent

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

दिसम्बर के मौसम मे

दिसम्बर के मौसम मे

जो देते हैं हमें दुआ

जो देते हैं हमें दुआ