in

गुनाह-ए-आशिकी

गुनाह-ए-आशिकी

 

अब इस से बढकर… गुनाह-ए-आशिकी क्या होगी
जब रिहाई का वक्त आया…
तो पिंजरे से महुब्बत हो चुकी थी

What do you think?

129 Points
Upvote Downvote

Written by bvbt3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

काबिल-ए-तारीफ

काबिल-ए-तारीफ

ख़ूब है शौक

ख़ूब है शौक