in

गुस्से में

गुस्से में

गुस्से में, बरहमी में, ग़ज़ब में, इताब में
ख़ुद आ गए है वो मिर ख़त ते जवाब में
– Divakar Rahi

What do you think?

129 Points
Upvote Downvote

Written by bvbt3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लो देख लो

लो देख लो

मुक़र्रर मुलाक़ातों

मुक़र्रर मुलाक़ातों