in

ज़ुलफें मत बांधा करो

ज़ुलफें मत बांधा करो

ज़ुलफें मत बांधा करो तुम,
हवाएें नाराज़ रहती हैं

What do you think?

385 points
Upvote Downvote

Written by Taureano Ent

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अजीब कश्मकश थी

अजीब कश्मकश थी

ख़्वाब टूटे हैं

ख़्वाब टूटे हैं