in

जिसका शिद्द्त से

जिसका शिद्द्त से इंतिज़ार होता है,

जिससे मिलने को दिल बेक़रार होता है,

जिसकी एक झलक बेकली में सुकूँ देती है,

कोई माने या न माने वही सच्चा प्यार होता है।

Jiska shiddat se intizaar hota hai,

Jisse milne ko dil beqarar hota hai,

Jiski ek jhalak be-kali mein sukun deti hain,

Koi maane ya na maane wahi sachcha pyar hota hai.

– Khalid Lakhnawi

What do you think?

129 Points
Upvote Downvote

Written by Taureano Ent

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भरोसा ना करना