in

तमाम उम्र

तमाम उम्र मैं इक अजनबी के घर में रहा

सफ़र न करते हुए भी किसी सफ़र में रहा

What do you think?

129 Points
Upvote Downvote

Written by Taureano Ent

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भरोसा ना करना