in

नविश्ता था

नविश्ता था

नविश्ता था, जो हो गया, इसमें तेरी ख़ता नहीं..
चलो मान लेते हैं तू मजबूर था, बेवफा नहीं…
– Smita Wadkar

(नविश्ता – written)

What do you think?

378 Points
Upvote Downvote

Written by bvbt3

One Comment

Leave a Reply

Leave a Reply to pooja pandit Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

गरीब नहीं जानता

गरीब नहीं जानता

बाप वो अज़ीम हस्ती ह

बाप वो अज़ीम हस्ती ह