in

LoveLove LOLLOL

बङा नाज़ था

बङा नाज़ था

बङा नाज़ था उनको अपने परदे पे फराज़
कल रात वो ख्वाब में सर-ऐ-आम चले आये

What do you think?

116 Points
Upvote Downvote

Written by bvbt3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिन सफ़र

बिन सफ़र

दो बार

दो बार