in

यकीन क्या है

यकीन क्या है जो आये यकीं दिलाने से।

मैं चाहती हूँ तुझे जान इक जमाने से।।

इसीलिए तो कहे है कि शक न करना तुम,

ये आग वो है जो बुझती नहीं बुझाने से।।

– Priya Khushbu

What do you think?

129 Points
Upvote Downvote

Written by Taureano Ent

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भरोसा ना करना