in

रहने दो

रहने दो

रहने दो कि अब तुम भी मुझे पढ़ न सकोगे
बरसात में काग़ज़ की तरह भीग गया हूॅ
– Baaqi Siddiqui

What do you think?

997 Points
Upvote Downvote

Written by Taureano Ent

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

दिसम्बर के मौसम मे

दिसम्बर के मौसम मे

जो देते हैं हमें दुआ

जो देते हैं हमें दुआ