in

रिहा कर ख़ूबसूरत

रिहा कर ख़ूबसूरत

रिहा कर ख़ूबसूरत दिखने की चाहत से मुझे..
ऐ आईने तू मेरी सादगी को ज़मानत दे दे

What do you think?

129 Points
Upvote Downvote

Written by Taureano Ent

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अजीब कश्मकश थी

अजीब कश्मकश थी

ख़्वाब टूटे हैं

ख़्वाब टूटे हैं