अहंकार शायरी - घमंड शायरी - Ahankar Shayari - Ghamand Shayari - Ghamandi Shayari - Guroor Shayari - गुरूर शायरी

25
  • Posted on 14/11/2017
    Username Admin

    हो सके तो दिलों में रहना सीखो
    गुरूर में तो हर कोई रहता है...

  • Username Admin

    See Also :- Papa Teacher Jokes Part 2 - Sawal Jawab

  • Posted on 14/11/2017
    Username Admin

    *** अहंकार शायरी ***

    रूबरू होने की तो छोङिये, लोग गूफ्तगू से भी कतराने लगे हैं...
    गुरूर आेढ़े हैं रिश्ते, अपनी हैसियत पर इतराने लगे हैं

  • Posted on 03/01/2018

    झुकी झुकी पलकें

    झुकी-झुकी पलकें चेहरे पे कितना नूर है
    ज़ालिम की सादगी में भी देखो कितना गुरूर है



  • Posted on 29/01/2018

    समय के साथ

    *** अहंकार शायरी ***

    समय के साथ चलने से,समय जीना सिखाता है,
    अकड़ कर चलनेवालों का, घमंड टूट जाता है,
    कहानी चार दिन की है, जमाना भूल जाता है,
    सिर्फ अपनों को ही, गुजरा जमाना याद आता है,
    - नीतू ठाकुर



  • Posted on 11/05/2018

    प्रेम अौर अहंकार

    प्रेम सदा माफ़ी माँगना पसंद करता है,
    अहंकार सदा माफ़ी सुनना पसंद करता है।