Aaina Shayari - आईने पर शायरी - आईना शायरी

38
  • Posted on 03/12/2017
    Username Admin

    तुम आईना क्यूं देखती हो?
    बेरोज़गास करोगी क्या मेरी अॉखों को..

  • Username Admin

    See Also :- Papa Teacher Jokes Part 3

  • Posted on 11/12/2017
    Username Admin

    *** aaina shayari ***

    रिहा कर ख़ूबसूरत दिखने की चाहत से मुझे..
    ऐ आईने तू मेरी सादगी को ज़मानत दे दे

  • Posted on 11/12/2017
    Username Admin

    मुस्कुरा के देखो तो सारा जहॉ रंगीन है...
    वरना भीगी पलकों से तो आईना भी धुंधला दिखता है..

  • Posted on 01/02/2018

    ज़िद्दी है कितना

    *** aaina shayari ***

    ज़िद्दी है कितना
    कभी मुस्कुराता ही नहीं,
    काश के ये आईना
    मैं बाज़ार से लाता ही नहीं

    हर शय ज़माने की
    गर मिलती है नसीब से,
    फिर तो नसीब मेरा
    यक़ीनन ख़ुदा बनाता ही नहीं

    - अजय दत्ता



  • Posted on 23/02/2018

    दोस्त एक साहिल

    दोस्त एक साहिल है तुफानो के लिये,
    दोस्त एक आईना है अरमानो के लिये,
    दोस्त एक मेहफिल है अंजानो के लिये,
    दोस्ती एक ख्वाहिश है आप जैसे दोस्त को पाने के लिये..