Aashiqui Shayari - Tu Aashiqui Shayari - आशिकी शायरी

20
  • Posted on 14/11/2017
    Username Admin

    अब इस से बढकर... गुनाह-ए-आशिकी क्या होगी
    जब रिहाई का वक्त आया... तो पिंजरे से महुब्बत हो चुकी थी

  • Username Admin

    See Also :- Papa Teacher Jokes Part 1

  • Posted on 05/12/2018

    आशिक़ी में

    *** aashiqui shayari ***

    आशिक़ी में 'मीर' जैसे ख़्वाब मत देखा करो
    बावले हो जाओगे महताब मत देखा करो



  • Posted on 05/12/2018

    पत्थर का एक बुत

    पत्थर का एक बुत थी, "हिना"आशिकी से पहले,
    तेरे इश्क ने तराशा , मुझे हीरा बना दिया।



  • Posted on 05/12/2018

    आशिक़ी में ज़रूरी

    *** aashiqui shayari ***

    आशिक़ी में बहुत ज़रूरी है
    बेवफ़ाई कभी कभी करना
    - बशीर बद्र



  • Posted on 05/12/2018

    मोहब्बत को अक़ीदा

    मोहब्बत को अक़ीदा, आशिकी को दीन कहता था...💞
    कोई था, जो मेरी हर बात पर आमीन कहता था...?💞