Desh Bhakti Shayari - वतन पर शायरी - देशभक्ति शायरी - शहीदों पर शायरी - Patriotic Shayari Hindi - फौजी शायरी

29
  • Posted on 07/02/2018

    कतरा कतरा

    कतरा - कतरा भी दिया वतन के वास्ते ,
    एक बूँद तक ना बचाई इस तन के वास्ते ,
    यूं तो मरते है लाखो लोग हर रोज़ ,
    पर मरना तो वो है जो जान जाये वतन के वास्ते ...



  • Username Admin

    See Also :- Papa Teacher Jokes Part 1

  • Posted on 07/02/2018

    सम्मान

    *** desh bhakti shayari वतन पर शायरी ***

    बुजदिलों , कायरों में न मेरा नाम हो।
    लहू का क़तरा क़तरा मेरे वतन पे क़ुर्बान हो।
    ये ख़ुदा कुछ ज्यादा नहीं माँगा मैंने,
    बस इतनी सी आरज़ू है कि हर भारत वासी
    के दिल में वतन , और तिरंगे के प्रति सम्मान हो।।



  • Posted on 07/02/2018

    झुक कर सलाम

    आयो झुक कर सलाम करे उन्हें
    जिनके हिस्से में यह मुकाम आता है ...
    किस कदर खुश नसीब है वो लोग...
    खून जिनका वतन के काम आता है ...



  • Posted on 07/02/2018

    वतन के नाम

    *** desh bhakti shayari वतन पर शायरी ***

    ना जियो धर्म के नाम पर,
    ना मरो धर्म के नाम पर,
    इन्सानियत ही है धर्म वतन का,
    बस जियो वतन के नाम पर।



  • Posted on 07/02/2018

    ऐ वतन तेरी मुहब्बत में

    ऐ वतन तेरी मुहब्बत में ये जिंदगी अदा कर देंगे
    इन बरफीली वादियों मे अपनी तकदीर बयां कर देंगे
    हिंदुस्तान के मैदान -ए - जंग से वादा है हमारा
    कश्मीर मांगने वालों को जिंदगी से विदा कर देंगे