Dhadkan Shayari In Hindi - Dil Ki Dhadkan Shayari - धड़कन शायरी

17
  • Posted on 28/01/2018

    रफ्ता रफ्ता

    रफ्ता रफ्ता वो मेरे सीने की धड़कन बन गये

    अब उलझनें उनसे हम क्या कहें... जब वो ही उलझन बन गये
    - Yamini



  • Username Admin

    See Also :- Pati Patni Jokes - Part 1

  • Posted on 31/01/2018

    लफ्ज़ नम हुए

    *** dhadkan shayari ***

    लफ्ज़ नम हुए मेरे, धड़कन थमने सी लगी,
    जब जाते वक्त ने अलविदा कहा !



  • Posted on 30/04/2018

    धड़कनें

    धड़कनें अहसास कराती हैं जनाब कि जिन्दा हैं हम ,
    वरना शक़ होता है कभी- कभी अपने वजूद पर
    - Dolly



  • Posted on 21/05/2018

    समंदर क्या देता है

    *** dhadkan shayari ***

    समंदर क्या देता है, और फिर दरिया रवा क्यूं है
    ये चलती हवायें, टूटे पत्तों की हमनवा क्यूं हैँ

    आपने तो कहा था, मै पाक साफ हूं खातिरे मुहब्बत
    फिर रग में आपके, दिल दो धड़कने की सदा क्यूँ हैं

    - Varun



  • Posted on 04/09/2018

    सीने से तेरे

    सीने से तेरे लगकर दिलबर, पल में
    मिल जाता रूह को सुकून है....
    ये इश्क़ मेरी सिर्फ इबादत नहीं,
    दिल की हर धड़कन का जुनून है..!!