in

Garibi Shayari In Hindi – गरीबी पर शायरी – गरीबी शायरी | Unclejokes

गरीब नहीं जानता

गरीब नहीं जानता क्या है मज़हब उसका
जो बुझाए पेट की आग वही है रब उसका

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

ड़ोली चाहे अमीर के घर से उठे चाहे गरीब के,

चौखट एक बाप की ही सूनी होती है !!

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

दुःख तो सब जताते हैं

कोई आँसू नहीं पोछता

अपनी रोटी में से एक दे दूं

कोई नहीं सोचता

जिस दिन लोगों की

सोच बदल जायेगी

गरीबी और भुखमरी

नजर नहीं आएगी

कितना लुटाते हो

खुशियाँ मनाने में

और जेब फट जाती है

रोटी खिलाने में

अजब तेरी कुदरत

गजब तेरी माया

तूने भी कैसा इंसान बनाया

-नीतू ठाकुर

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

हमने कुछ ऐसे भी गरीब देखे हैं

जिनके पास पैसों के अलावा कुछ भी नहीं

– Mukesh

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

गरीब भूख से मरे तो अमीर आहों से मर गए।

इनसे जो बच गए वो झूठे रिवाजों से मर गए।।

– Shanaya

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

What do you think?

1638 points
Upvote Downvote

Written by bvbt3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shikayat Shayari Feature Image

Shikayat Shayari In Hindi – शिकायत शायरी – Shikwa Shayari | Unclejokes

Majburi Shayari Feature Image

Majburi Shayari – लाचारी शायरी – Majburi Status For Whatsapp | Unclejokes