Kafan Shayari In Hindi - कफ़न शायरी

34
  • Posted on 07/02/2018

    क्यों मरते हो यारो

    क्यों मरते हो यारो सनम के लिए
    दुपट्टा भी नहीं देगी कफ़न के लिए
    मरना है तो यारो मरो अपने वतन के लिए
    तिरंगा तो मिलेगा कफन के लिए ..



  • Username Admin

    See Also :- Pappu Papa Jokes In Hindi

  • Posted on 08/02/2018

    वतन वालो

    *** kafan shayari ***

    वतन वालो वतन नाँ बेंच देना.....
    ये धरती ये गगन ना बेच देना...
    शहीदो ने जान दि है वतन के वास्ते
    शहीदो के कफन ना बेच देना...!!



  • Posted on 10/05/2018

    वतन की खाक

    वतन की खाक को चंदन समझकर सर पे रखतें है
    कब्र में भी खाके वतन कफन पे रखते हैं
    - Guddu



  • Posted on 30/05/2018

    मरने की जल्दी

    *** kafan shayari ***

    यहाँ गरीब को मरने की इसलिए भी जल्दी है साहब...
    कहीं जिन्दगी की कशमकश में कफ़न महँगा ना हो जाए....!!
    - Ram



  • Posted on 30/05/2018

    ज़रा पहले अाना

    एै मौत ज़रा पहले अाना गरीब के घर
    कफ़न का खर्च दवाअों में निकल जाता है