in

Kafan Shayari In Hindi – कफ़न शायरी | Unclejokes

क्यों मरते हो यारो सनम के लिए

दुपट्टा भी नहीं देगी कफ़न के लिए

मरना है तो यारो मरो अपने वतन के लिए

तिरंगा तो मिलेगा कफन के लिए ..

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

वतन वालो वतन नाँ बेंच देना…..

ये धरती ये गगन ना बेच देना…

शहीदो ने जान दि है वतन के वास्ते

शहीदो के कफन ना बेच देना…!!

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

वतन की खाक को चंदन समझकर सर पे रखतें है

कब्र में भी खाके वतन कफन पे रखते हैं

– Guddu

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

यहाँ गरीब को मरने की इसलिए भी जल्दी है साहब…

कहीं जिन्दगी की कशमकश में कफ़न महँगा ना हो जाए….!!

– Ram

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

एै मौत ज़रा पहले अाना गरीब के घर

कफ़न का खर्च दवाअों में निकल जाता है

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

What do you think?

129 points
Upvote Downvote

Written by bvbt3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Insaniyat Shayari Feature Image

Insaniyat Shayari In Hindi – इंसानियत शायरी – इंसानियत पर शायरी | Unclejokes

Badalna Shayari Feature Image

Badalna Shayari In Hindi – बदलना शायरी – Badlav Shayari | Unclejokes