Madhosh Shayari - Madhoshi Shayari - मदहोश शायरी - मदहोशी शायरी

13
  • Posted on 11/12/2017
    Username Admin

    होश का पानी छिङको, मदहोशी की अॉखों पर..
    अपनों से न उलझों गैरों की बातों पर..

  • Username Admin

    See Also :- Pati Patni Jokes - Part 1

  • Posted on 14/09/2018

    तड़प बेचैनी

    *** madhosh shayari ***

    तड़प, बेचैनी, मदहोशी का, तूफ़ान कहर बरपायेगा
    होगा अब यलगार-ए-इश्क, शोर दूर तलक जायेगा..



  • Posted on 29/10/2018

    ये सुर्ख लब

    ये सुर्ख लब, ये रुख़्सार, और ये मदहोश नज़रें..
    इतने कम फासलों पर तो, मयखाने भी नहीं होते..



  • Posted on 29/10/2018

    मदहोश मत करो

    *** madhosh shayari ***

    मदहोश मत करो मूझे अपना चेहरा दिखा कर.....
    मोहब्बत अगर चेहरे से होती तो खुद़ा दिल ना बनाता..!



  • Posted on 29/10/2018

    मदहोश नजरों में

    मदहोश नजरों में अब इश्क की चाहत उभर आई है
    मोहब्बत को छुपा लू दिल मे पर आँखे तो हर जाई है..