Maikhana Shayari In Hindi - मयखाना शायरी हिंदी में - मैखाना शायरी

14
  • Posted on 10/05/2018

    उल्फते बर्बादी

    उसको उल्फते बर्बादी हो गयी है
    बात ये शहर में मुनादी हो गयी है

    मुद्दत हुई उसको नही देखा
    शायद उसकी शादी हो गयी है

    कल की, बताती है सबको नुस्खे
    घर में वो सब की दादी हो गयी है

    इजहारे मुहब्बत है साफ साफ
    ज्यादा ही वो फसादी हो गयी है

    शहर में है वो, शाने मयखाना
    इतनी शराब की आदि हो गयी है

    -Varun



  • Username Admin

    See Also :- Pati Patni Jokes - Part 1

  • Posted on 25/01/2019

    जाम पीने मैं

    *** maikhana shayari ***

    जाम पीने मैं मयखाना क्यूं जाऊं...
    मेरे महबूब के होंठ ही काफी है...



  • Posted on 11/02/2019

    कमबख्त इश्क

    कमबख्त इश्क ने हमको बेशऊर बना दिया
    एक बेवफ़ा के फरेबों ने मयखाना दिखा दिया



  • Posted on 11/02/2019

    मयख़ाना-ए-हस्ती

    *** maikhana shayari ***

    मयख़ाना-ए-हस्ती का जब दौर ख़राब आया,
    कुल्लड़ में शराब आई, पत्ते पर कबाब आया...



  • Posted on 11/02/2019

    मयखाने में बैठकर

    मयखाने में बैठकर कौन कितनी पी गया,
    ये तो मयखाना ही जाने...

    मगर मयखाना कितने घरों को पी गया,
    ये खुद मयखाना भी ना जाने...