Main Tere Layak Nahi Shayari - Main Tere Kabil Nahi Shayari

7
  • Posted on 25/02/2018

    उगता हुआ सूरज

    उगता हुआ सूरज दुआ दे आपको
    खिलता हुआ फूल खुशबू दे आपको
    हम तो कुछ भी देने के काबिल नहीं,
    देनेवाला हज़ार खुशिया दे आपको!



  • Username Admin

    See Also :- Top 8 Benefits of Punarnava Boerhavia Diffusa

  • Posted on 28/02/2018
    Username Admin

    *** main tere layak nahi shayari ***

    ये मत समझ कि तेरे काबिल नहीं हैं हम,
    तड़प रहे हैं वो जिसे हासिल नहीं हैं हम।

  • Posted on 22/08/2018

    ये बात नहीं

    ये बात नहीं की मै तेरे लायक नहीं.
    बस तू एक नशा है जो मेरे मजहब में जायज नहीं



  • Posted on 22/08/2018

    माना सौ फ़ीसदी

    *** main tere layak nahi shayari ***

    माना सौ फ़ीसदी नहीं हूँ मैं
    बूंद हूँ बस नदी नहीं हूँ मैं
    रोज़ एहसास कराता क्यूँ है
    तेरे लायक अभी नहीं हूँ मैं
    मेरी मजबूरियों का लिहाज़ रखो
    बेवफा कुदरती नहीं हूँ मैं
    मुस्कराहट हूँ बस मैं चेहरे की
    होंठ वाली हंसी नहीं हूँ मैं
    धूप है तेज़ तुमको क्या दूंगा
    पेड़ भी बरगदी नहीं हूँ मैं
    तू मुझे नाम से पहचानता है
    यही बहुत है, अजनबी नहीं हूँ मैं



  • Posted on 16/10/2018

    हर किसी से नही

    हर किसी से नही मिलता हमारा मिजाजे दिल
    कुछ के हम लायक नही,कुछ हमारे काबिल नही