Pehchan Shayari - Insan Ki Pehchan Shayari - पहचान शायरी - Shayari On Pehchaan

26
  • Posted on 14/10/2017
    Username Admin

    चीज़ों से हो रही है पहचान आदमी की,
    आैकात अब हमारी बाजा़र लिख रहे हैं...

  • Username Admin

    See Also :- Top 7 Ayurvedic Herbs For Liver Detox and Repair

  • Posted on 14/11/2017
    Username Admin

    *** pehchan shayari ***

    चेहरे से पहचान होती है
    चेहरे से परख नहीं होती

  • Posted on 11/12/2017
    Username Admin

    आप बस किरदार हैं अपनी हदें पहचानिए
    वर्ना आप भी दिन कहानी से निकाले जाएंगी
    - Wasim Barelvi

  • Posted on 19/01/2018

    चंदन से वंदन

    *** pehchan shayari ***

    चंदन से वंदन ज्यादा शीतल होता हैे,
    योगी होने के बजाय उपयोगी होना ज्यादा अच्छा हैे,
    प्रभाव अच्छा होने के बजाय स्वभाव अच्छा होना ज्यादा जरूरी है
    हँसता हुआ चेहरा आपकी शान बढ़ाता है मगर...
    हँसकर किया हुआ कार्य आपकी पहचान बढ़ाता है

    ? सुप्रभात ?



  • Posted on 01/02/2018

    सुनो न

    सुनो न
    तुम अजनबी ही अच्छे हो......
    जान पहचान अकसर
    जानलेवा होती है.....