Roshni Shayari - रौशनी शायरी

26
  • Posted on 25/02/2018

    और क्या करते

    दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते
    गम के आंसू न बहते तो और क्या करते
    उसने मांगी थी हमसे रौशनी की दुआ
    हम खुद को न जलाते तो और क्या करते



  • Username Admin

    See Also :- Pati Patni Jokes - Part 1

  • Posted on 14/04/2018

    अजीब अंधेरा है

    *** roshni shayari ***

    अजीब अंधेरा है
    ए - इश्क - तेरी महफ़िल में
    किसी ने दिल भी जलाया तो
    रौशनी न हुई...



  • Posted on 03/09/2018

    नज़र में आयेंगे

    नज़र में आयेंगे चेहरे न जाने किस - किसके...
    दुआएं मांगिये महफ़िल में रौशनी कम हो



  • Posted on 11/09/2018

    रह रही हूँ

    *** roshni shayari ***

    रह रही हूँ अँधेरे में, तू दीदारे रौशनी दे दे ।
    जो बुजी हैं, शम्मा मोहब्बत की मेरी
    तू जला के मुझे जिंदगी दे दे...
    उठाई है दर-ओ-दीवार जो मोहब्बत की मैने,
    दुनिया के सितम शह शह कर,
    तू बस वफाये प्यार की मुझे छत दे दे...



  • Posted on 19/03/2019

    मेरी रौशनी

    मेरी रौशनी दूर तलक जाएगी।
    शर्त ये है कि सलीके से जलाई जाऊं।।
    - शनाया चौधरी