in

LoveLove LOLLOL AngryAngry CuteCute OMGOMG CryCry

Samandar Shayari – समंदर शायरी – दरिया शायरी | Unclejokes

Samandar ki bebasi

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

बिन सफ़र

बिन सफ़र, बिन मंज़िलों का
एक रास्ता होना चाहता हूॅ

कहीं दूर किसी जंगल में,
ठहरा दरिया होना चाहता हूॅ

एक ज़िंदगी होना चाहता हूॅ
बिना रिश्तों अौर रिवाज़ों की

दूर आसमान से गिरते,
झसने में कहीं खोना चाहता हूॅ

मैं आज मैं होना चाहता हूॅ

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

कोई कश्ती

कोई कश्ती में तन्हा जा रहा है
किसी के साथ दरिया जा रहा है
– Mohsin Zaidi

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

दरिया बनकर किसी को डुबाने से बेहतर है,

की जरिया बनकर किसीको बचाया जाए

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

समंदर क्या देता है, और फिर दरिया रवा क्यूं है

ये चलती हवायें, टूटे पत्तों की हमनवा क्यूं हैँ

आपने तो कहा था, मै पाक साफ हूं खातिरे मुहब्बत

फिर रग में आपके, दिल दो धड़कने की सदा क्यूँ हैं

– Varun

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

What do you think?

390 Points
Upvote Downvote

Written by bvbt3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

गलती पर शायरी Feature Image

गलती पर शायरी – गलती शायरी – Galti Shayari 2 Lines | Unclejokes

Shikayat Shayari Feature Image

Shikayat Shayari In Hindi – शिकायत शायरी – Shikwa Shayari | Unclejokes