in

Saza Shayari – सज़ा शायरी | Unclejokes

मासूम सज़ा

हम अपने दुश्मन को भी बहुत मासूम सज़ा देते हैं,
नही उठाते उस पर हाथ बस नज़रों से गिरा देते हैं

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

जुर्म में

जुर्म में हम कमी करें भी तो क्यूॅ?
तुम सज़ा भी तो कम नहीं करते!
– Jaun Eliya

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

चलो बाॅट लेते हैं

 

चलो बाॅट लेते हैं अपनी सज़ाऐं
ना तुम याद अाअो, ना हम याद आएें

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

बिछड़ के तुम से ज़िंदगी सज़ा लगती है,

यह साँस भी जैसे मुझ से ख़फ़ा लगती है।

तड़प उठती हूँ दर्द के मारे,

ज़ख्मों को जब तेरे शहर की हवा लगती है ।

अगर उम्मीद ए वफ़ा करूँ तो किस से करूँ,

मुझ को तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफ़ा लगती है।

– Aditi Agarwal

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

मांग भरने की सज़ा

कुछ इस कदर पा राहा हूं

उसकी मांग पूरी करते करते

मांग मांग कर खा राहा हू

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

What do you think?

129 points
Upvote Downvote

Written by bvbt3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Alfaaz Shayari Feature Image

Alfaaz Shayari – अल्फाज शायरी | Unclejokes

Hindu Muslim Shayari Feature Image

Hindu Muslim Shayari – हिन्दू मुस्लिम शायरी – Hindu Muslim Unity Messages | Unclejokes