Shaam Shayari - शाम शायरी

31
  • Posted on 14/11/2017
    Username Admin

    ज़िंदगी की हर सुबह कुछ शरतें लेकर आती है
    आैर ज़िंदगी की हर शाम कुछ तजुर्बे देकर जाती है

  • Username Admin

    See Also :- Top 5 Ayurvedic Herbs For Diabetes (Miracle Herbs)

  • Posted on 14/11/2017
    Username Admin

    *** shaam shayari ***

    कोई पूछेगा तो सुबह का भूला कह देंगे,
    तुम आअो तो सही,
    हम शाम तो सवेरा कह देंगे

  • Posted on 11/12/2017
    Username Admin

    ज़िंदगी का फलसफा भी कितना अजीब है
    शामें कटती नहीं अौर साल गुज़रते चले जा रहे हैं

  • Posted on 14/12/2017

    ये सर्द शामें

    *** shaam shayari ***

    ये सर्द शामें भी किस कदर ज़ालिम है,
    बहुत सर्द होती है, मगर इनमें दिल सुलगता है,



  • Posted on 19/01/2018

    हर सुबह तेरी मुस्कुराती रहे

    हर सुबह तेरी मुस्कुराती रहे,
    हर शाम तेरी गुनगुनाती रहें,
    मेरी दुआ है कि तू जिसे भी मिलें,
    हर मिलने वाले को तेरी याद सताती रहें.
    सुप्रभात