Swagat Shayari - स्वागत शायरी

4
  • Posted on 05/03/2018

    हुस्न ओ इश्क

    हुस्न-ओ-इश्क का समा है आज जमाने के बाद
    हर फूल की खुशबू गज़ब है आप के आने के बाद
    - Yamini



  • loading...
  • Posted on 05/03/2018

    हसरतो ने फिर से

    *** swagat shayari ***

    हसरतो ने फिर से करवट बदली है
    आप आये तो बलखा के बहारें आईं
    - Yamini



  • Posted on 05/03/2018

    नूर ए जश्न

    नूर-ए-जश्न है तू ... तू ही शान-ए-महफिल है
    मेरे महरबाँ इस इन्जार के तू काबिल है
    - Yamini



  • loading...
  • Posted on 05/03/2018

    तेरे आने की खबर

    *** swagat shayari ***

    तेरे आने की खबर है हम दिल थामे बैठे हैं
    कहीं दिलशाद तमन्नाऐ मेरी जान न ले लें
    -Yamini