in

Zakhm Shayari – Zakham Shayari In 2 Line | Unclejokes

Aadat hai humein

Ek alag hi pehchaan banane ki aadat hai humein…
Zakhm ho jitna gehra utna muskurane ki aadat hai humein…

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

वक़्त से ज़रा बचा लूँ मैं इन्हें

कि उनकी ही तो ये अमानत हैं,

वरना तो हर “ज़ख़्म” भर देना

वक़्त की बड़ी पुरानी सी आदत है

देखो एक गुलशन की नज़र से तो

ख़ार भी फूलों से ही हैं खुबसूरत,

क्या करें वो गर चुनना बस फूल

ज़माने की बड़ी पुरानी सी रिवायत हैं

-‍ अजय उस्तुवार

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

अधूरी कहानी पर खामोश लबों का पहरा है…

चोट़ रूह की है इसलिए जख़्म भी गहरा है….!!

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

इक कोशिश ये कि कोई देख न ले दिल के जख्म

इक ख़्वाहिश ये कि काश, कोई देखने वाला होता

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

जब लगे ज़ख़्म तो क़ातिल को दुआ दी जाए

उसके इक इक वार पे इक मुस्कान लुटा दी जाए

जब इश्क़ के बदले इश्क़ नहीं रसूख़ दुनियादारी का

तो आह के बदले आह की क्यूँ कर सज़ा दी जाए

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on pinterest

What do you think?

1096 points
Upvote Downvote

Written by bvbt3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Main Tere Layak Nahi Shayari Feature Image

Main Tere Layak Nahi Shayari – Main Tere Kabil Nahi Shayari | Unclejokes

Badmashi Shayari Feature Image

Badmashi Shayari In Hindi – Badmashi Status – बदमाशी शायरी | Unclejokes